मंगलवार, 29 सितंबर 2009

सिमटे लम्हें...

' बिखरे सितारे' इस ब्लॉग से अलग यह ब्लॉग बनाया...वजह, यहाँ रोज़मर्रा की कुछ घटनाएँ पाठकों के साथ सांझा कर सकूँ...

' बिखरे सितारे ' एक धारावाहिक है।' सिमटे लम्हें', ये स्वतंत्र विचारोंका एक प्रवाह होगा..कभी गद्यमय तो कभी पद्यमय। एक अन्य ब्लॉगर सहेली को आमंत्रित करना चाहती हूँ,कि, ब्लॉग की उपेक्षा ना हो जाय।

' बिखरे सितारे' पे की गयीं कुछ काव्य रचनाएँ यहाँ ज़रूर डाल दिया करूँगी, क्योंकि, कुछ पाठकों के पास धारावाहिक पढ़नेका समय नही होता।

एक 'दैनन्दिनी' की तरह ये ब्लॉग होगा...जो झूलेकी तरह से झूलेगा...वर्तमान से भूतमे...या फिर भविष्य में...मन होता ही ऐसा है..अस्थिर..डोलता रहता है...इसकी नकेल पकड़ना आसान काम नही..सधे हुए साधक/साधू ही ये हुनर जानते हैं....मै इसे अनिर्बंध छोड़ दूँगी...जब जहाँ वो, तब तहाँ मै...

गर कोई ब्लॉगर मित्र अपना साक्षात्कार देने के लिए राज़ी हुए, तो वह भी करना चाहती हूँ...कईयों से काफ़ी कुछ सीख रही हूँ...

आज शुरुआत है...पिछले दो दिन ब्लॉग वाणी बंद होगी ये सबको तक़रीबन विश्वास हो गया था...हुआ क्या था,ये तो अबतक नही पता..लेकिन मन नही मान रहा था,कि, बुराई का अच्छाई पे विजय हो सकता है...कदापि नही...अच्छाई मर के भी, विजयी होती है.....बुराई जिंदा भी रहे, तो पराजितों की तरह जीती है...
सबसे प्रथम सभी ब्लॉगर पाठक दोस्तों को बधाई दूँगी,कि, रावण विजयी नही हुआ....राम गर सत्य का प्रतीक हैं,तो देर सवेर जीत सत्य की ही होगी...आज फिर एकबार विश्वास हो गया। अच्छाई पे लांछन चाहे सैकड़ों लगें, लेकिन वो छुप नही सकती।

आज बस इतना ही...जब जैसा, तब तैसा...ये ब्रीद वाक्य बना रहेगा...

17 टिप्‍पणियां:

उन्मुक्त ने कहा…

यह अलग चिट्टा बना कर अच्छा ही किया। लेकिन काले पर सफेद से लिखे रहने पर पढ़ने में मुश्किल होती है।

वन्दना अवस्थी दुबे ने कहा…

स्वागत है ......

gardu ने कहा…

...जो झूलेकी तरह से झूलेगा...वर्तमान से भूतमे...या फिर भविष्य में...मन होता ही ऐसा है..अस्थिर..डोलता रहता है...इसकी नकेल पकड़ना आसान काम नही..सधे हुए साधक/साधू ही ये हुनर जानते हैं....मै इसे अनिर्बंध छोड़ दूँगी...जब जहाँ वो, तब तहाँ मै...

वाह साहब
भाषा का सौंदर्य प्रशंशा का अधिकारी है
लेखनी और संवेदना के मिलन से उपजती है रचना
दृष्टी और परिवीक्छन इसे गहराई प्रदान करते है
आप के पास ये सभी विशेषताएं उपलब्ध हैं
बधाई

चंदन कुमार झा ने कहा…

स्वागत है आपका । शुभकामनायें ।


गुलमोहर का फूल

हितेंद्र कुमार गुप्ता ने कहा…

Bahut barhia... isi tarah likhte rahiye

http://mithilanews.com

Please Visit:-
http://hellomithilaa.blogspot.com
Mithilak Gap...Maithili Me

http://mastgaane.blogspot.com
Manpasand Gaane

http://muskuraahat.blogspot.com
Aapke Bheje Photo

Manoj Kumar Soni ने कहा…

बहुत ... बहुत .. बहुत अच्छा लिखा है
हिन्दी चिठ्ठा विश्व में स्वागत है
टेम्पलेट अच्छा चुना है. थोडा टूल्स लगाकर सजा ले .
कृपया वर्ड वेरिफ़िकेशन हटा दें .(हटाने के लिये देखे http://www.manojsoni.co.nr )
कृपया मेरे भी ब्लागस देखे और टिप्पणी दे
http://www.manojsoni.co.nr और http://www.lifeplan.co.nr

sanjay vyas ने कहा…

स्वागत और शुभकामनाएं.

श्यामल सुमन ने कहा…

अच्छी कोशिश आपकी शमां जी। आपने खूबसूरती से लिखा है कि - जो झूलेकी तरह से झूलेगा...वर्तमान से भूतमे...या फिर भविष्य में...मन होता ही ऐसा है..अस्थिर..डोलता रहता है...इसकी नकेल पकड़ना आसान काम नही..। सत्य वचन। चलिए मैं तो कोई साधू हूँ नहीं - मेरा भी मन डोल गया और साक्षात्कार देने के लिए मैंने खुद को राजी कर लिया। शुभकामना।

www.manoramsuman.blogspot.com

kshama ने कहा…

श्यामल जी,
आपको क्षमाके साथ ये क्षमा एक अर्ज़ करती है ...टिप्पणी के लिए तहे दिलसे शुक्रिया ..लेकिन मै 'शमा ' नहीं क्षमा हूँ.. .......!!!

श्यामल सुमन ने कहा…

क्षमा जी से श्यामल सुमन क्षमा प्रार्थी है। दर असल मैं K SHAMA समझ गया था।

SACCHAI ने कहा…

" bahut hi accha laga aapko padhker ...aapne to kamal ker diya ...aapko aapki is post ke liye badhai "

----- eksacchai { AAWAZ }

http://eksacchai.blogspot.com

http://hindimasti4u.blogspot.com

SACCHAI ने कहा…

" bahut hi badhiya ....aapko is behad khubsurat post ke liye dhero badhai "


----- eksacchai { AAWAZ }

http://eksacchai.blogspot.com

http://hindimasti4u.blogspot.com

SACCHAI ने कहा…

" bahut hi badhiya ....aapko is behad khubsurat post ke liye dhero badhai "


----- eksacchai { AAWAZ }

http://eksacchai.blogspot.com

http://hindimasti4u.blogspot.com

नारदमुनि ने कहा…

narayan narayan

Amit K Sagar ने कहा…

चिट्ठा जगत में आपका हार्दिक स्वागत है. आप बहुत अच्छा लिख रहे हैं, और भी अच्छा लिखें, लेखन के द्वारा बहुत कुछ सार्थक करें, मेरी शुभकामनाएं.
---

---
हिंदी ब्लोग्स में पहली बार Friends With Benefits - रिश्तों की एक नई तान (FWB) [बहस] [उल्टा तीर]

Basanta ने कहा…

My best wishes to you in this new journey!

Manish ने कहा…

अच्छाई मर के भी, विजयी होती है.....बुराई जिंदा भी रहे, तो पराजितों की तरह जीती है...

ye baat toh ab zindagi bhar yaad rakhunga..... :)

aaj aapke blog ko achchhe se dekh raha tha...

isi bich ye dikh gaya...