शुक्रवार, 11 मार्च 2011

ना खुदाने सताया...

कभी,कभी ज़िंदगी में ऐसे मोड़ आते हैं,जहाँ केवल सवाल ही सवाल होते हैं! हर तरफ चौराहे...जिन्हें अपना माना,जान से ज्यादा प्यार किया...पता चलता है,वो तो परायों से बद्दतर निकले! किस पे विश्वास करें? आखिर ज़िंदगी का मकसद क्या है....बस चलते रहना?महीनों गुज़र जाते हैं,हँसी का मुखौटा ओढ़े और अन्दर ही अन्दर गम पिए! इम्तिहान की घड़ियाँ बिताये नहीं बीततीं! शायद ऐसे किसी दौर से गुज़रते हुए ये रचना लिख दी है!

ना खुदाने सताया
ना मौतने रुलाया
रुलाया तो ज़िन्दगीने
मारा भी उसीने
ना शिकवा खुदासे
ना गिला मौतसे
थोडासा रहम  माँगा
तो वो जिन्दगीसे
वही ज़िद करती है,
जीनेपे अमादाभी
वही करती है...
मौत तो राहत है,
वो पलके चूमके
गहरी  नींद सुलाती है
ये तो ज़िंदगी है,
जो नींदे चुराती है
पर शिकायतसे भी
डरती हूँ उसकी,
गर कहीँ सुनले,
पलटके एक ऐसा
तमाचा जड़ दे
ना जीनेके काबिल रखे
ना मरनेकी इजाज़त दे....


27 टिप्‍पणियां:

Kailash C Sharma ने कहा…

पर शिकायतसे भी
डरती हूँ उसकी,
गर कहीँ सुनले,
पलटके एक ऐसा
तमाचा जड़ दे
ना जीनेके काबिल रखे
ना मरनेकी इजाज़त दे....

बहुत संवेदनशील रचना..आखिरी पंक्तियाँ लाज़वाब..जिंदगी से उसकी शिकायत से क्या फायदा..जियो उस हर पल को जो सामने आये..बहुत सुन्दर

भारतीय नागरिक - Indian Citizen ने कहा…

इस पर तो विचार करना पड़ेगा..

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

बहुत भावुक रचना ....

ज्योति सिंह ने कहा…

bahut hi achchhi rachna .

mridula pradhan ने कहा…

gahre bhawon ki kavita.bahut achchi lagi.

Kajal Kumar ने कहा…

ज़िंदगी जैसी भी है, बहुत ख़ूबसूरत है :)

डॉ. हरदीप संधु ने कहा…

वाह..क्या खूब लिखा है आपने।
बहुत प्यारी रचना !

जेन्नी शबनम ने कहा…

kshama ji,
bahut bhaavpurn rachna hai. zindgi se shikaayat to yun sabhi ko hoti kyonki ja chaha nahin milta aur aarzoo hai ki khatm nahin hoti...bahut badhaai.

anupama's sukrity ! ने कहा…

बहुत गहन भाव -
दर्द से भरी- बहुत सुंदर रचना -

वन्दना ने कहा…

मौत तो राहत है,
वो पलके चूमके
गहरी नींद सुलाती है
ये तो ज़िंदगी है,
जो नींदे चुराती है

बडी गहरी बात कह दी…………सच मौत तो विश्रांति काल है।

शारदा अरोरा ने कहा…

संवेदन शील ...
इक झन्नाटेदार थप्पड़ कुदरत ने हमें धीरे से मारा है
टूट के बिखर न जाएँ कहीं , थोडा पुचकारा है ...

Arvind Mishra ने कहा…

खुद की अपनी जिन्दगी पर भी मनुष्य का बस नहीं है -फिर यह सोच क्यों ?

अनामिका की सदायें ...... ने कहा…

aapke shabdo ke sateek chayan ne kavita ko prabhaavshaali bana diya hai. bahut sach baat kahi.

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण) ने कहा…

सचमुच जिन्दगी एक पहेली है!
सुन्दर रचना!

चला बिहारी ब्लॉगर बनने ने कहा…

गुरुदेव गुलज़ार साहब ने भी एक जगह कहा है कि ज़िंदगी हर मोड़ पर हर रूप में मौत लिये मिलती है.. सिर्फ मौत ही है जो बस एक बार आती है अपने आग़ोश में लेकर कहली जाती है.. छल नहीं करती!!

kamal prakash ravi ने कहा…

सच दिल को छू गयी आपकी कविता ......

daanish ने कहा…

मौत तो राहत है,
वो पलके चूमके
गहरी नींद सुलाती है...

है तो सच ही
लेकिन
जिंदगी के भी सितम सहने ही होंगे
बस ...
ज़िंदा रहने तक ही .... !

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

चर्चा मंच के साप्ताहिक काव्य मंच पर आपकी प्रस्तुति मंगलवार 15 -03 - 2011
को ली गयी है ..नीचे दिए लिंक पर कृपया अपनी प्रतिक्रिया दे कर अपने सुझावों से अवगत कराएँ ...शुक्रिया ..

http://charchamanch.uchcharan.com/

जयकृष्ण राय तुषार ने कहा…

होली की शुभकामनाएं |भावपूर्ण कविता |

परावाणी : Aravind Pandey: ने कहा…

कवित्व ही जो घने अन्धकार में भी प्रकाश का विश्वास बनाए रखता है...और शांत होकर, प्रकाश की प्रतीक्षा कर सकता है.इसलिए कवि की सत्ता सार्वभौम एवं सर्वोच्च है...

POOJA... ने कहा…

मेरी लाईफ में भी एक दिन ऐसा ही आया था...
अभी-अभी की तो बात है, मैंने भी एक कविता लिखी थी...
पर सच कहूँ, सच्चाई जानकर पहले तो दुःख होता है परन्तु कुछ वक़्त बाद ही लगता है, जितना जल्दी पता चला उतना अच्छा...
बस अब मज़े कीजिये कि आपकी लाईफ से भी बुराइयां चली गईं...

ZEAL ने कहा…

न शिकवा यार से , न शिकायत रकीब से , जो भी हुआ , खुदा से हुआ , या नसीब से ।

मेरे भाव ने कहा…

पर शिकायतसे भी
डरती हूँ उसकी,
गर कहीँ सुनले,
पलटके एक ऐसा
तमाचा जड़ दे
ना जीनेके काबिल रखे
ना मरनेकी इजाज़त दे...

very very nice. bahut sunder.

Anu ने कहा…

aapki rachna bahut pasand aai. isliye apni facebook par copy ki hai

Kunwar Kusumesh ने कहा…

होली की हार्दिक शुभकामनायें

संजय भास्कर ने कहा…

खूब लिखा है आपने।
होली की हार्दिक शुभकामनायें

Dimps ने कहा…

Wow!!
Simply nice...

I am speechless... :)