मंगलवार, 15 फ़रवरी 2011

क्यों बसंत रूठा?



ऊन तथा रेशम के सूत से ये भित्ती चित्र मैंने बनाया है.

शोर उठा था नगर में,
आया है बसंत पूरी बहर में, 
हमने भी सजाई क्यारियाँ,
सुन परिंदों की किलकारियाँ! 
जाने क्या बात हुई,क्या  हुई ख़ता ,
मेरी छोड़ सब की फूलीं फुलवारियाँ! 
मुझ से ही  क्यों बसंत रूठा,
क्यों हुई मेरी  रुसवाईयाँ?
तब से आहें भरना छोड़ दिया,
किस आह की सुनवाई यहाँ?




28 टिप्‍पणियां:

मनोज कुमार ने कहा…

अच्छी रचना।

shikha varshney ने कहा…

आपके बनाये भित्ति चित्रों से नजर हटे तो रचना तक आऊं ..

भारतीय नागरिक - Indian Citizen ने कहा…

बहुत सुन्दर चित्र हैं, मनमोहक शब्दों के साथ.

वन्दना अवस्थी दुबे ने कहा…

जाने क्या बात हुई,क्या हुई ख़ता ,
मेरी छोड़ सब की फूलीं फुलवारियाँ!
मुझ से ही क्यों बसंत रूठा,
जितने सुन्दर भित्ति चित्र, उतनी ही सुन्दर कविता.

कुश ने कहा…

वाकई चित्र रचना पर भारी पढ़ते है..

संजय भास्कर ने कहा…

"ला-जवाब" जबर्दस्त!! सुन्दर चित्र.....सुन्दर कविता

सम्वेदना के स्वर ने कहा…

होता है, कभी कभी ऐसा भी होता है!!पर किसे दोष दें!!

Kajal Kumar ने कहा…

आज आपके शब्दों से कहीं आगे निकल गईं आपकी अंगुलियां. दोनों चित्र अद्वितिय हैं. मरे पास एक ही शब्द है 'वाह' !

वृक्षारोपण : एक कदम प्रकृति की ओर ने कहा…

भित्ति चित्रों को देखकर कुछ नया लगा। हम सोचने लगे ये कैसा चित्र है? कुछ अलग हटकर है, फिर नीचे कैप्शन पढ़ा कि आप ने बनाये हैं। बहुत रचनात्मक हैं आप, साहित्य के क्षेत्र में कला के क्षेत्र में भी।
कविता भी बहुत सुन्दर है। चित्र कविता के कथ्य के अनुरूप है। बहुत अच्छा। इतने सुन्दर चित्र के लिये धन्यवाद! अच्छा किया आपने बता दिया कि ऊन एवम् रेशम से बना है अन्यथा सोचना पड़ता कि किससे बनाया गया है?

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण) ने कहा…

रचना और रचनाकारी दोनों ही सुन्दर हैं!

Dimps ने कहा…

Hello ji,

Dekho kitne saare comments aa gaye... :)
Achhe comments ki baarish kabhi aapse naraaz nahi hoti... :)

Bahut achha likha hai hamesha ki tarah... sab kuch keh diya kuch hi lines mein... great work!

Regards,
Dimple

निर्मला कपिला ने कहा…

जितने अच्छे भिति चित्र बने हैं उतनी ही अच्छे शब्द बुने हैं सच मे तुम्हारी उँगलियों मे जादू है। बधाई ।ाउर ऐसी उँगलियों को चूम लेने का मन है। बेटियाँ हों तो तुम जैसी।

वन्दना ने कहा…

आपकी रचनात्मक ,खूबसूरत और भावमयी
प्रस्तुति भी कल के चर्चा मंच का आकर्षण बनी है
कल (17-2-2011) के चर्चा मंच पर अपनी पोस्ट
देखियेगा और अपने विचारों से चर्चामंच पर आकर
अवगत कराइयेगा और हमारा हौसला बढाइयेगा।

http://charchamanch.blogspot.com/

अरूण साथी ने कहा…

अजी यह जानना सबसे जरूरी है कि वसंत रूठा क्यों.... अब मनाना तो आपको ही होगा... हमेशा की तरह अच्छी रचना। आभार।

दिगम्बर नासवा ने कहा…

चटक रंगों से सजाया है इन चित्रों को अपने ...
बसंत तो रंग बिरंगे रंग ले कर अत है जीवन में ... कहीं मीठे कहीं उदासियों के .... अछा लिखा है .

Mukesh Kumar Mishra ने कहा…

जाने क्या बात हुई,क्या हुई ख़ता ,
मेरी छोड़ सब की फूलीं फुलवारियाँ!
मुझ से ही क्यों बसंत रूठा,
क्यों हुई मेरी रुसवाईयाँ?
तब से आहें भरना छोड़ दिया,
किस आह की सुनवाई यहाँ?


क्या कथ्य..........
क्या कथा.............
पिरो दी सारी व्यथा............

अरुण चन्द्र रॉय ने कहा…

भित्त चित्र मनमोहक हैं और आपकी कविता भावपूर्ण !

Arvind Mishra ने कहा…

कला और कविता के परिणय का एक और नायाब नमूना

देवेन्द्र पाण्डेय ने कहा…

कभी मुंबई गया तो निगाहें आपके बनाये भित्ती चित्रों को जरूर ढूंढेंगी।

कविता रावत ने कहा…

शोर उठा था नगर में,
आया है बसंत पूरी बहर में,
हमने भी सजाई क्यारियाँ,
सुन परिंदों की किलकारियाँ!
...bahut badiya basanti prastuti... nagar mein jyada shor hai.. phir bhi basant aa hi jaata hai haule se..

रंजना ने कहा…

नायाब पेंटिंग बनायीं है आपने....

रचना में पीड़ा प्रभावशाली ढंग से स्फुरित हुई है...

राकेश कौशिक ने कहा…

भित्त चित्र - लाजवाब

Indranil Bhattacharjee ........."सैल" ने कहा…

क्षमा जी, आपकी रचना में निराशा झलक रही है और आपके कलाकृतियों में रंगों का भरमार है, पर कोई उलझन का सा रंग है ... ऐसा लगता है मन में तूफ़ान है ...

: केवल राम : ने कहा…

रचना भावपूर्ण है ..लेकिन थोडा सा उदासी का माहौल बनाती है ..

राजेश सिंह ने कहा…

हमें तो भरोसा है, वसंत कहीं गया नहीं है और गया है तो लौट आएगा.

Vijay Kumar Sappatti ने कहा…

shama ji , main bhaagyashaali hoon ,ki mujhe aapse milne ka mauka mila aur maine aapke chitr dekhe hai .. aapka hunar , duniya ke sabse acche hunar me se ek hai , khuda aapko swasth rakhe .. aapki kavita to bahut kuch kah gayi kam shabdo me hi ..

vijay

abhi ने कहा…

चित्र गज़ब का बनाया है आपने

Sriprakash Dimri ने कहा…

कला और काब्य का अनूठा संगम...सदा जय हो आपकी...