मंगलवार, 18 मई 2010

दीवारें बोलती नही..



खादी सिल्क से दीवारें तथा रास्ता बनाया है..क्रोशिये की बेलें हैं..और हाथसे काढ़े हैं कुछ फूल-पौधे..बगीचे मे रखा statue plaster ऑफ़ Paris से बनाया हुआ है..

 सुना ,दीवारों  के  होते  हैं  कान ,
काश  होती  आँखें और लब!
मै इनसे गुफ्तगू   करती,
खामोशियाँ गूंजती हैं इतनी,
किससे बोलूँ? कोई है ही  नही..

आयेंगे हम लौट के,कहनेवाले,
बरसों गुज़र गए , लौटे नही ,
जिनके लिए उम्रभर मसरूफ़ रही,
वो हैं  मशगूल जीवन में अपनेही,
यहाँ से उठे डेरे,फिर बसे नही...

सजी बगिया को ,रहता है  फिरभी,
इंतज़ार क़दमों की आहटों का,
पर  कोई राह इधर मुडती नही ,
पंखे की खटखट,टिकटिक घड़ी की,
अब बरदाश्त मुझसे होती नही...

28 टिप्‍पणियां:

सुलभ § सतरंगी ने कहा…

अकेलेपन का क्या मंजर खींचा है आपने.
आपके लफ्ज गुफ्तगू करते दिख रहे हैं.

पेंटिंग भी सुन्दर और अनूठा है.

vikas ने कहा…

आपने तो चार पांच साल पीछे भेज दिया मुझे जब मुझे भी प्रेम हुआ था ,,बेहतरीन ..रचना ...

उम्मेद गोठवाल ने कहा…

अजनबीपन जहां वर्तमान परिवेश की देन है वहीं इन्तजार शाश्वत सत्य....मानवीय अनुभूतियों व संवेदनाओं की सुन्दर अभिव्यक्ति......भावों के सुन्दर,सशक्त प्रकटीकरण हेतु बधाई।.....मेरे ब्लॉग से जुङेगी तो खुशी होगी।

वन्दना ने कहा…

सुना ,दीवारों के होते हैं कान ,
काश होती आँखें और लब!
मै इनसे गुफ्तगू करती,
खामोशियाँ गूंजती हैं इतनी,
किससे बोलूँ? कोई है ही नही..

waah kya baat kahi hai..........sach kitna mushkil hota hai aise jeena jahan koi bhi na ho sunne wala.........bahut dard bhara hai.

Parul ने कहा…

kabhi laut pate nahi,yun bhi jane wale...bahut hi sundar!

संजय भास्कर ने कहा…

हमेशा की तरह आपकी रचना जानदार और शानदार है।

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक ने कहा…

बहुत सुन्दर रचना!
शब्दों को बढ़िया ढंग से परोसा है!

nilesh mathur ने कहा…

बहुत सुन्दर!

भारतीय नागरिक - Indian Citizen ने कहा…

कविता के साथ पेंटिंग और भी बढ़िया लगी..

vikas ने कहा…

इंतज़ार कदमों की आहट का, पर कोई राह इधर मुडती नहीं ..

बेहतरीन ..

लाजवाब प्रस्तुती


विकास पाण्डेय
www.vicharokadarpan.blogspot.com

दिलीप ने कहा…

waah ekaakipan ko ubhaar diya...

'उदय' ने कहा…

...बेहतरीन !!!

वन्दना अवस्थी दुबे ने कहा…

सुना ,दीवारों के होते हैं कान ,
काश होती आँखें और लब!
मै इनसे गुफ्तगू करती,
खामोशियाँ गूंजती हैं इतनी,
किससे बोलूँ? कोई है ही नही..
कमाल की कविता!! अकेलेपन का इतना सजीव चित्रण. क्या कहूं अब?

Tej Pratap Singh ने कहा…

आयेंगे हम लौट के,कहनेवाले,
बरसों गुज़र गए , लौटे नही ,
जिनके लिए उम्रभर मसरूफ़ रही,
वो हैं मशगूल जीवन में अपनेही,
यहाँ से उठे डेरे,फिर बसे नही...

khub kaha

देवेश प्रताप ने कहा…

भावपूर्ण रचना ......लाजवाब .

Arvind Mishra ने कहा…

यही तो है अकेलेपन की एनाटामी और किसी आहट के लिए आहत मन !

शारदा अरोरा ने कहा…

इस अकेलेपन से बच्चों के विरह की खुशबू आ रही है ...उदासियों के आलम का सजीव चित्रण है ये कविता ।

सम्वेदना के स्वर ने कहा…

अकेलेपन की वेदना का साकार वर्णन... दीवारें क़ैद मालूम पड़ती हैं और
आवाजें शूल की तरह चुभती हैं..

विवेक Call me Vish !! ने कहा…

chaliye aap se hi shuru karta hu....puri kavita sundar hai ...mujhe priy lagi ..सजी बगिया को ,रहता है फिरभी,
इंतज़ार क़दमों की आहटों का,
पर कोई राह इधर मुडती नही ,
पंखे की खटखट,टिकटिक घड़ी की,
अब बरदाश्त मुझसे होती नही... Itna saveev lakhan maine abhi tak blog par nhi pada...sach kahu to aap mujhe prarit karte ho moulik laikhan ko !!

Jai H Mangalmay HO

Kulwant Happy ने कहा…

रचना अद्बुत लिखी है, लेकिन अगर सच में एक कवि की अपनी पीड़ा है तो थोड़ा सा दर्द मुक्त होने की आदत डालनी होगी।

हाँ, मैं अक्सर कहते कहते रुक जाता हूँ, जी, आपका नाम अगर के.शमा है तो K.Shama ऐसे लिखे,कृप्या मेरे लिए, मुझे तो वो क्षमा ही समझ आता है। अगर क्षमा है तो फिर ठीक है मैं क्षमा माँगता हूँ।

Shekhar Suman ने कहा…

bahut hi utkrist rachna....
badhai...
-----------------------------------
mere blog par meri nayi kavita,
हाँ मुसलमान हूँ मैं.....
jaroor aayein...
aapki pratikriya ka intzaar rahega...
regards..
http://i555.blogspot.com/

Shri"helping nature" ने कहा…

auchhi rachna hai.
पंखे की खटखट,टिकटिक घड़ी की,
अब बरदाश्त मुझसे होती नही...
behad sundr bhav aap hme gmail me add kr lijiye
shrisscet@gmail.com

soni garg ने कहा…

Aaayenge hum laut ke wo kehne waale barso gujar gayelaute nahi ........
very touchy .......

arvind ने कहा…

सुना ,दीवारों के होते हैं कान ,
काश होती आँखें और लब!
मै इनसे गुफ्तगू करती,
खामोशियाँ गूंजती हैं इतनी,
किससे बोलूँ? कोई है ही नही.....AAPke shabdon me dard jhalakataa hai.aapki sabhi rachnaaye ouryahan tak ki tippani bhi itna dardanaak jaise lagta hai ki aapke jivan kaa hissa ho.god bless you. subhakaamanaaye.

शाहिद मिर्ज़ा ''शाहिद'' ने कहा…

खामोशियाँ गूंजती हैं इतनी,
किससे बोलूँ? कोई है ही नही..
रचना ज़्यादा अच्छी या पेंटिंग?
ये फ़ैसला आप पर ही छोड़ते हैं.

sandhyagupta ने कहा…

Akalepan ki tis ko sundar abhiyakti pradan karti rachna.badhai.

हर्षिता ने कहा…

बेहतरीन रचना ।

abhi ने कहा…

bahut achhi kavita :)