शनिवार, 15 मई 2010

दीवारें बोलती नही..


खादी सिल्क से दीवारें तथा रास्ता बनाया है..क्रोशिये की बेलें हैं..और हाथसे काढ़े हैं कुछ फूल-पौधे..बगीचे मे रखा statue plaster ऑफ़ Paris से बनाया हुआ है..

 सुना ,दीवारों  के  होते  हैं  कान ,
काश  होती  आँखें और लब!
मै इनसे गुफ्तगू   करती,
खामोशियाँ गूंजती हैं इतनी,
किससे बोलूँ? कोई है ही  नही..

आयेंगे हम लौट के,कहनेवाले,
बरसों गुज़र गए , लौटे नही ,
जिनके लिए उम्रभर मसरूफ़ रही,
वो हैं  मशगूल जीवन में अपनेही,
यहाँ से उठे डेरे,फिर बसे नही...

सजी बगिया को ,रहता है  फिरभी,
इंतज़ार क़दमों की आहटों का,
पर  कोई राह इधर मुडती नही ,
पंखे की खटखट,टिकटिक घड़ी की,
अब बरदाश्त मुझसे होती नही...

16 टिप्‍पणियां:

shekhar ने कहा…

kya khub soch hai...
deewarein bolti nahi...
waah.....
bahut hi achhi rachna ban padi hai.....

भारतीय नागरिक - Indian Citizen ने कहा…

कविता में आज कुछ नैराश्य दिखाई दे रहा है..

sangeeta swarup ने कहा…

कढाई बेहद उम्दा है.....और उस पर कही हुई कविता चार चाँद लगा रही है...सुन्दर

Indranil Bhattacharjee ........."सैल" ने कहा…

वाह ! सुन्दर कलाकृति के साथ एक सुन्दर कविता भी ... इंतज़ार और व्याकुलता के सही चित्रण ...

शमीम ने कहा…

आदर्णीय महोदया सबसे पहले प्रोत्साहित करने के लिये आपका आभार.
पेंटिंग के साथ एक सुन्दर कविता की प्रस्तुति वाकई काबिले तारीफ़ है.
धन्यवाद.

Arvind Mishra ने कहा…

इसी को कहते हैं न सन्नाटे का छंद !

'उदय' ने कहा…

...बेहतरीन !!!

देवेश प्रताप ने कहा…

लाजवाब रचना ......कढ़ाई तो कमाल कि .

Parul ने कहा…

umda!

सुमन'मीत' ने कहा…

तस्वीरें निशब्द होकर भी बहुत कुछ कहती हैं
बहुत सुन्दर

Basanta ने कहा…

Very powerful portrayal of feeling! Loneliness, desire and pain, all rolled into a beautiful poem.

And the art is superb too, a masterpiece on its own.

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक ने कहा…

रचना में विषय को बहुत ही चतुराई से पिरोया है आपने!

अभिषेक प्रसाद 'अवि' ने कहा…

sach kaas diwaaron k kaan k sath sath lab v hote to hum v unse dher saari baatein karte..

kunwarji's ने कहा…

ji bahut badhiya prastuti..

kunwar ji,

Dimps ने कहा…

सजी बगिया को ,रहता है फिरभी,
इंतज़ार क़दमों की आहटों का,
पर कोई राह इधर मुडती नही ...

Aap bahut achha likhti hain Kshama ji... Itne saare achhe thoughts kahaan se laati hain!! Mujhe bhi wahaan ka pataa bataa do main bhi kuch thoughts chunn ke le aaungi :)

Regards,
Dimple

pinki vajpayee ने कहा…

deeware bolti nahi...kaffi accha topic hai...or kavita bhi khoob likhi hai aap neeeeeeee